सोच और विचारों की जादुई शक्ति

“आप जैसा सोचते हैं वैसा ही बन जाते हैं.”-गौतम बुद्ध.

Friends, आपने ये सुविचार वाक्य कई बार पढ़ा-सुना होगा कि मनुष्य अपने
भाग्य का निर्माता स्वंय है. इंसान अपने विचारों और कर्मों से अपने भाग्य का
निर्माण करता है. Life में अगर देखा जाए तो ये बात सुनते तो सब हैं लेकिन इसे
वास्तविक अर्थों(Real Meaning) में समझ बहुत कम लोग पाते हैं और अगर कोई भी
इंसान(Person) इसे समझ ले तो वो अपने जीवन(Life) को बदल(change) लेता है. आइए इससे
जुड़े कुछ तथ्यों(Facts) पर चर्चा करते हैं. इससे पहले मैं विचारों और सोचने की
शक्ति(Power) से जुडी कुछ कहानियाँ share करना चाहूँगा.
एक बार एक meeting में हमारे मित्र श्री जितेन्द्र पाल सिंह चौहान जी
ने जापान की एक research के बारे में बताया. एक बार जापान के वैज्ञानिकों ने आदमी
की सोच पर अध्ययन किया. उन्होंने एक ऑफिस में दो बोतलों में पानी भरा. एक बोतल के
ऊपर Love(प्रेम) लिखा और दूसरी बोतल पर Hate(नफ़रत) लिखा और उन दोनों बोतलों को ऐसे
स्थान पर रख दिया जहाँ से सभी कर्मचारियों का आना-जाना रहता था. कुछ महीनों बाद
दोनों बोतलों के पानी को निकल कर taste किया और देखा कि जिस बोतल पर उन्होंने
Love(प्रेम)  लिखा था उस बोतल का पानी
स्वाद में मीठा था और जिस बोतल के ऊपर Hate(नफ़रत) लिखा था उसका स्वाद कड़वा और बहुत
ही बुरा था.
How it can be possible? जब दोनों बोतलों में एक सा पानी था और दोनों
एक ही स्थान पर रखी हुईं थीं तो एक का स्वाद मीठा और एक का कड़वा कैसे? Is it a
miracle or a magic? जब वैज्ञानिकों ने इसका अध्ययन किया तो पाया कि न तो ये कोई
जादू था और न ही कोई रासायनिक क्रिया. ये सब इंसानी सोच(Human thinking) का परिणाम
था. ये सब कैसे possible हुआ?
जिस बोतल पर love यानि प्रेम लिखा था उस पर जब लोगों
की नजर पड़ती थी तो उन्हें अच्छा लगता था और उनकी सोच और नजरिया उसके प्रति अच्छा
हो जाता था और जिस बोतल पर hate(नफ़रत) लिखा था उसके प्रति उनकी नजर अच्छी नहीं
होती थी. तो क्या इंसान की सोच में इतना ज्यादा असर हो सकता है? Is it possible?
आइए इसके बारे में हम महापुरुषों द्वारा कहे गए सुविचार और उनके अनमोल वचनों के
माध्यम से समझते हैं.
Friends, कहते हैं कि सूक्तियां और सुविचार लोगों के वर्षों के अनुभव
का निचोड़ होतीं हैं. आज हम जो सुविचार पढते-सुनते हैं जिन्होंने इनकी रचना की होगी
हो सकता है उन्होंने भी पहले इनके बारे में कोई research की होगी. आपने कभी
सुप्रसिद्ध विचारक स्वेट मार्डेन की पुस्तकें पढ़ीं होंगी. अगर आपने उनकी books
पढ़ीं हैं तो आपने देखा होगा कि उन्होंने व्यक्ति की सकारात्मक सोच और विचारों का
कितना महत्व बताया है.
http://www.hindisuccess.com/2015/12/the-magical-power-of-our-thinking-and-thoughts-in-hindi.html
आप जैसा सोचते हैं वैसा ही बन जाते हैं. अगर आप अच्छा सोचेंगे तो आप
अच्छाईयों की तरफ बढ़ेंगे और जब आप बुरा सोचेंगे तो बुराइयां आपकी और आकर्षित
होंगीं. Friends, life में positive thoughts और आशावादी सोच बहुत ही महत्वपूर्ण
है. क्या सच में इंसान के विचारों और उसकी सोच में इतनी जादुई शक्ति (Magic power)
होती है कि वो किसी इंसान की life को change कर दे? हम सबने बहुत सारे किस्से और
कहानियें सुनीं होंगी जिनमें बताया गया कि एक साधारण से इंसान ने अपने मन में जब
कुछ ठान लिया तो उसने कर दिखाया. आखिर ये सब कैसे होता है? और ये सब होता है.दुनिया में बहुत से चमत्कार घटित होते हैं वो सब इंसान के विचार और इच्छाशक्ति के
बल पर घटित हो पाते हैं, कहते हैं कि जब तुम किसी चीज को शिद्दत से चाहते हो तो
सारी कायनात उसे पाने में तुम्हारी मदद करती है. जो लोग अपनी life में कुछ असाधारण
या खास करते हैं क्या उन सब में कोई असाधारण या दैवीय शक्ति होती है? सब में तो
नहीं हो सकती फिर साधारण से दिखने वाले लोग भी असाधारण से काम को कैसे कर पाते
हैं? ये सब संभव(possible) हो पाता है उनकी सोच और उनके विचारों की शक्ति के बल
पर!
http://www.hindisuccess.com/2015/12/the-magical-power-of-our-thinking-and-thoughts-in-hindi.htmlHow the power of positive thinking can change anyone’s life or his
destiny? चलो जादू की बात करते हैं. जादू में क्या होता है? कोई काम जो संभव नहीं
दिखता लेकिन जादूगर उसे संभव कर दिखता है. जब इंसान कोई विचार अपने मन में बार-बार
सोचता है तो धीरे धीरे वह उसका संकल्प बन जाता है फिर यही संकल्प एक दिन कार्य रूप
में परिणित हो जाता है. Success Person के मन में भी सफलता के विचार होते हैं.
उनकी सोच और संकल्प उन्हें उसी दिशा में प्रेरित करता है. कई चमत्कार तो हम सबने
अपने जीवन(life) में देखे होंगे जब कोई महात्मा या सिद्ध पुरुष कोई बात कह देता है
तो वह सत्य हो जाती है. कई लोगों को कोई दर्द या तकलीफ होती है तो वह उनकी थोड़ी सी
भभूत मात्र से ठीक को जाती है. हम यहाँ कोई अंधविश्वासों की बात नहीं कर रहे, बात
है इंसान की सोच और उसके नजरिये की. जब उस महात्मा पर उन्हें विश्वास होता है तभी
उनकी बात या भभूत असर कर पाती है जबकि दूसरे लोग जन्हें उन पर विश्वास नहीं होता
उन्हें वो भभूत कोई असर नहीं कर पाती. उनके विचार और सोच उनके प्रति आस्था और
विश्वास के हैं इसी आस्था और विश्वास ने उन्हें ज्यादा फायदा पहुँचाया. बात यहाँ
पर सोच और विश्वास की ही है.
महापुरुषों ने कहा है और महान व्यक्तियों(great peoples) से अक्सर
सुना है कि मनुष्य अपने भाग्य का निर्माता स्वंय है. आप जैसा सोचते हैं वैसा ही बन
जाते हैं. जब मनुष्य अपने भाग्य
को खुद बना सकता
है तो फिर उसका भाग्य(Luck) मनचाहा क्यों नहीं बनता?
Many thinkers and sages say that the man is the creator of
his destiny himself. On which basis they can say this? Perhaps they say this on
the basis of his thinking, his power of thinking and will power. The magic of
will power and thinking is well known and many people know this many of them
know it that how

they can motivate any person well.

Friends, मनुष्य के सोचने और उसके वैसे होने में
बड़ा ही गहरा संबंध है. जब इंसान की सोच और विचारों में इतनी गहरी शक्ति होती है तो
फिर लोग इसका फायदा क्यों नहीं उठा पाते? शायद अज्ञानता या अविश्वास के कारण. या
फिर कह सकते हैं कि वो अपनी खुद की शक्तियों को सही से जान नहीं पाते. जब सोच और
नजरिये से पानी का स्वाद बदल सकता है फिर जीती-जागती इंसानी life क्यों नहीं? आप
जैसा सोचते हैं वैसा ही बन जाते हैं. फिर बहुत सारे लोग अच्छे और सफल क्यों नहीं
बन पाते? शायद इसलिए क्योंकि वो वैसा सोचते ही नहीं हैं. मनुष्य को भगवान ने बहुत
सारी शक्तियां(Powers) दी हैं वो अगर उनका सही तरीके से उपयोग करना सीख ले तो फिर
वो अपनी life में बहुत कुछ achieve कर सकता है. सोचने और विचारने की शक्ति भी
उनमें से एक है. अच्छा सोचो तो अच्छे हो जाओगे, बुरा सोचो तो बुरे बन जाओगे. तो
फिर क्यों न आज से ही आप अपनी लाइफ के बारे में अच्छा और सकारात्मक सोचना शुरू कर
दें.The magic of positive thinking की बात करें तो हम पाएंगे कि सकारात्मक सोच यानि positive thinking में एक जादू तो होता है. जो लोग हमेशा खुशहाली की बातें करते रहते हैं खुशी उनके आस-पास घूमती रहती है. हर situation, हर काम उनके लिए enjoyment वाला होता है और कमाल की बात है उन्हें दोस्त भी वैसे ही मिलते हैं. तो बात हुई न वही कि इंसान की सोच(Thinking) में जादुई शक्ति होती है.
निवेदन: Dear readers, ये Motivational Article on the magic of thinking and
thoughts in Hindi आपको कैसा लगा कृपया अपनी सोच और
सुझाव comments के द्वारा हम तक जरुर पहुंचायें.Other Motivational Articles in Hindi:आपकी उपलब्धियां, आपकी सफलता और आपकी सोच
मुसीबतों से डरिये नहीं; जूझिये
हमारी सोच और हमारी खुशियाँ
दूसरों के सुख से दुखी क्यों?

HindiSuccess के नए पोस्ट की जानकारी ई-मेल पर पायें

11 thoughts on “सोच और विचारों की जादुई शक्ति”

  1. बहुत ही स्तरीय लेख है।

    हम अपने आसपास कई बार बहुत ही साधारण व्यक्तित्व, आर्थिक रूप से कमजोर, पारिवारिक परेशानी से जूझने वाले और अल्प शिक्षा प्राप्त लोगों को देखते हैं जो कि विपरीत परिस्थितयों के बावजूद अपनी मेहनत, दृढ इच्छाशक्ति से सफलता का मुकाम हासिल करके सबको अचंभित करते है। ऐसे लोग हम सब के लिए प्रेरणा के स्त्रोत होते हैं।

  2. आदमी जब निराश हो जाता है तो या तो दिमाग से कमजोर हो जाता है या खुदखुशी की सोचकर जान गँवा देता है

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *