Vishwa Prakrati Sanrakshan divas

विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस 28 जुलाई

Vishwa Prakrati Sanrakshan Divas (28 जुलाई) – World Nature Conservation Day.

पूरी दुनिया में विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस ( World Nature Conservation Day ) प्रत्येक वर्ष 28 जुलाई को मनाया जाता है. विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस मनाने का प्रमुख उद्देश्य पृथ्वी के प्राकृतिक वातावरण से विलुप्त होते हुए जीव – जन्तुओं तथा पेड़ – पौधों का संरक्षण करना है.

Vishwa Prakrati Sanrakshan divas

प्राणियों तथा पेड़ पौधों की रक्षा तथा संरक्षण करने के लिए पर्यावरण को बचाना या संरक्षित करना जरूरी है. अगर पर्यावरण ही सुरक्षित नहीं रहेगा तो जीव-जंतु कैसे सुरक्षित रहेंगे.

www.hindisuccess.com Wishes you The World Nature Conservation day.

क्यों जरूरी है प्रकृति का संरक्षण

जल, जंगल और जमीन इन तीन तत्वों से प्रकृति का निर्माण होता है. यदि यह तत्व न हों तो प्रकृति इन तीन तत्वों के बिना अधूरी है. विश्व में ज्यादातर समृद्ध देश वही हैं जहा इन तीनों तत्वों का बाहुल्य है. बात अगर इन मूलभूत तत्व या संसाधनों की उपलब्धता तक सीमित नहीं है. आधुनिकीकरण के इस दौर में जब इन संसाधनों का अंधाधुन्द दोहन हो रहा है तो ये तत्व भी खतरे में पड़ गए हैं. अभी कुछ दिन पहले आपने टीवी न्यूज़ पर देखा होगा कि पहाड़ों के शहर शिमला में पानी की भयावह कमी आ गई थी. ये सब आजकल साधारण सी बात है. आज हम हर दिन किसी न किसी शहर में पीने के पानी की कमी के बारे में सुन सकते हैं.

Nature Conservation Day recognizes that a healthy environment is the foundation for a stable and productive society and to ensure the well-being of present and future generations, we all must participate to protect, conserve, and sustainably manage our natural resources.

Read Also:

Vishwa Prakrati Sanrakshan Divas- Think About Nature

अगर हम वर्तमान को ठीक तरीके से स्वस्थ नहीं रखते तो भविष्य निश्चित ही खतरे में पड़ेगा. आज जरुरत हमारी पृथ्वी के पर्यावरण को स्वस्थ बनाये रखने की है. बहुत चिंता का विषय है कि खुद मनुष्य पृथ्वी के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहा है.

आज हमारी पृथ्वी को पर्यावरण प्रदूषण के अलावा इसके अंधाधुंध दोहन से है.

We see pollution everywhere in soil, water and air. The main question is that how to conserve the nature. The man is not changing his nature but he has been changing the nature.

प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण आज की आवश्यकता

भारत जैसे देश में जहाँ नदियाँ बारह महीने बहती रहती थीं. जगह-जगह पानी के स्त्रोत रहते थे. आज ये हालत किस वजह से बने हैं. इसके पीछे एक मुख्य कारण सही तरीके से प्रकृति का संरक्षण न कर पाना है. जब मनुष्य प्रकृति का संरक्षण नहीं कर पा रहा तो प्रकृति भी अपना गुस्सा कई प्राक्रतिक आपदाओं के रूप में दिखा रही है. निःसंदेह प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण आज हमारी मुख्य प्राथमिकता है.

वर्ल्ड नेचर कन्सेर्वटिव डे ऐसा दिन है जो हमें इस बारे में जागरूक करता है.

On this day we have to say ‘THANK YOU NATURE’. Protecting nature, preserving life. ‘SAVE EARTH’ should be our slogan and motto.

THE GOLDEN KEYWORD FOR CONSERVATION OF NATURE

The 3 words are strongly useful. REUSE, REDUCE and RECYCLE. We have a rich biodiversity. If we conserve it properly we will get a lot of from it. Climate change and pollution are our main problems. Conserving the nature may give the solutions.

We have to love the  Green World.  We have to plant more and more trees.  When we love our Eco, our Earth will be happy.

Anil Sahu. CEO and Founder of HindiSuccess. Follow me on Facebook at:  Facebook.com/hindisuccess

 

HindiSuccess के नए पोस्ट की जानकारी ई-मेल पर पायें

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *