क्या आप अपने लिए Wish करते हैं?

अपने आप के लिए wish करना. दोस्तों, हम सबने अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और चाहने वालों को विभिन्न अवसरों पर शुभकामनाओं से भरे सन्देश तो भेजे होंगे जिनमे हमने बहुत ही सुन्दर तरीके से उनकी खुशहाली के लिए कई शुभकामनाएं की होंगी. ये तो आप सभी ने किया होगा. कोई दोस्त जब आपसे विदा ले रहा […]

क्या हाथ की लकीरों में लिखा ही तकदीर होती है?

      जिंदगी भगवान का दिया हुआ एक अनमोल उपहार है या दूसरे शब्दों में कहें तो हम कह सकते हैं कि भगवान ने हमें ये मनुष्य शरीर दिया यही उस का हम पर सबसे बड़ा उपकार है. मगर हम में से कई लोग अक्सर या तो भगवान से शिकायतें करते हैं या फिर हमारे हालातों […]

ज़िंदगी तो चलती रहती है

ज़िंदगी तो चलती रहती है

पल-पल बीत रहा है फिर भी वक़्त के पर बांधे रहते हैं जल के और निखर जाते हैं जीने वाले भी हद करते हैं. Hindi रेडियो धारावाहिक ‘तिनका तिनका सुख’ के title song की ये lines इंसानी जज्बे को कितनी गहराई से व्यक्त करती हैं. आशा और निराशा हम सब के जीवन के दो पहलू हैं. जब […]

आप क्या बनना चाहते हैं मिस्टर हैप्पी या मिस्टर सैड?

      आप क्या बनना चाहते हैं मिस्टर हैप्पी या मिस्टर सैड. Choice is yours. हम में से लगभग हर कोई यही चाहता है कि उसे ज्यादा से ज्यादा लोग पसंद करें. ज्यादा से ज्यादा लोग उसकी तारीफ करें, ज्यादा से ज्यादा लोग उसे like करें आदि आदि. हमारी सोच कहीं से भी गलत […]

आपकी उपलब्धियां, आपकी सफलता और आपकी सोच

“आप जीवन में वो सब कुछ पा सकते हैं जो आप चाहते हैं.” -संकलित मेरे एक मित्र हैं श्री दिनेश कुमार जैन जी. उन्हें मित्र न कहकर बड़े भाई कहा जाए तो ज्यादा सही होगा क्योंकि वो मुझसे उम्र में भी बड़े हैं और नौकरी में भी सीनियर हैं. कभी कभार उनसे मुलाकात होती रहती […]

आप जानते हैं गस पगोनिस को?

Motivational Article by: डॉ. महेश परिमल फिल्म ‘कोशिश’ की शूटिंग चल रही थी, एक सीन फिल्माया जाना था। सीन था, जब संजीव कुमार का पुत्र एक गूँगी, बहरी लड़्की से शादी करने से इंकार कर देता है। तब पिता बने संजीव कुमार अपने पुत्र समझाते हैं कि तुम्हें पढ़ा-लिखाकर इतना बड़ा केवल इसलिए किया कि […]

Believe in Yourself; You Are The Unique One

गोपाल दो महीने से बहुत उलझन में था. उसके सभी दोस्त कारोबार और नौकरी में आगे निकल गए थे. गोपाल उन सब से बहुत पीछे रह गया था और  कई दिनों तक जब उसने इस पर गहराई से सोचा तो वह हीन भावना से ग्रसित हो गया. उसे अपने आप पर पछितावा और ग्लानि सी […]

मुसीबतों से डरिये नहीं; जूझिये

मुसीबतों से डरिये नहीं; जूझिये– (Musibato se dariye mat; Jujhiye) प्रिय मित्रों, मनुष्य की इच्छा हो या नहीं लेकिन जीवन में उतार चढाव आना स्वाभाविक है. यह जीवन परिवर्तनशील परिस्थितियों से बंधा हुआ है  और इसी कारण चढ़े हुए गिरते हैं गिरे हुए उठते हैं..कठिनाइयाँ इस जीवन की एक सहज स्वाभाविक स्थिति है जिन्हें स्वीकार करके […]