ABOUT

हिंदी में वेबसाइट या ब्लॉग क्यों? (Hindi me website ya blog क्यों?)

अनिल कुमार साहू Anil Kumar Sahu
     Dear readers, इस हिंदी वेबसाइट पर पधारने के लिए धन्यवाद. मैंने इस वेबसाइट पर विशेष तौर से हिंदी भाषा में अपने लेख, कहानियां, संस्मरण आदि लिखने के लिए प्रयास किया  है. आज भी हिंदी भाषा में वेबसाइटों और blogs को प्रोत्साहित करने की जरुरत है. हिंदी भाषा हमारी अपनी भाषा है  और अपनी भाषा में लिखने का आनंद कुछ और है. आइये आज कुछ हिंदी वेबसाइट और हिंदी ब्लाग्स के बारे में बातें करते हैं.
आप इस लिंक को भी देख सकते हैं.

इंटरनेट पर अंग्रेजी का बोलबाला क्यों? (Internet par Angreji ka bolbala kyon?)

इंटरनेट पर अगर देखा जाये तो सबसे ज्यादा अगर किसी भाषा का महत्व सर्वाधिक है तो वो है अंग्रेजी. अंग्रेजी भाषा का इंटरनेट पर उपयोग और चलन इंटरनेट की शुरुआत से ही रहा है. इसके पीछे अनेक कारण हो सकते हैं. परंतु एक भारतवासी या हिंदीभाषी होने के नाते देखा जाये तो एक सवाल सबके मन में आ सकता है कि इंटरनेट पर अंग्रेजी ही क्यों? हिंदी क्यों नहीं?

इंटरनेट पर हिंदी क्यों नहीं (Internet par Hindi kyo nahi?

सवाल वाजिब है. आखिर अपनी भाषा में क्यों नहीं. इस सवाल के जवाब भी हमको ही तलाशने होंगे और समाधान भी शायद हमको ही करने पड़ेगा. इंटरनेट पर आज भी अधिकांश सामग्री English में ही उपलब्ध है. बहुत सारे users हिंदी या अन्य भारतीय भाषा के बजाए English में ही search करना और पढना पसंद करते हैं. उनके इस व्यवहार के पीछे उनकी अपनी वजहें होंगी. शायद मुख्य कारण ये रहा होगा कि हिंदी के बजाए अंग्रेजी में उपयोगी जानकारी ढूँढना और communication करना ज्यादा सरल और उपयोगी रहा है.

ब्लागर्स हिंदी वेबसाइट में अंग्रेजी क्यों उपयोग करते हैं (Bloggers Hindi websites me English kyon use karte hain?)

वेबमास्टर्स और ब्लागर्स द्वारा English में ज्यादा काम करने के अपने वाजिब कारण हैं जिन्हें वो लोग अच्छी तरह जानते-समझते हैं. किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग के लिए खोज इंजिनों में अच्छा स्थान और वेबसाइट के देखने वालों की संख्या ज्यादा होना ये दो मुख्य कारण हैं जिनके लिए bloggers Hindi के बजाए English contents और keywords पर ज्यादा ध्यान देते हैं. मेरी इसी वेबसाइट पर आप कहीं कहीं बीच बीच में हिंदी के बजाए अंग्रेजी के words का use पाएंगे. इंटरनेट जगत के व्यवहार और search engine optimization की वजह से मुझे ऐसा करना पड़ता है. कृपया इसे अन्यथा न लें.

हमें हिंदी का उपयोग बढ़ाना होगा (Hame Hindi ka upyog badhana hoga)

पिछले वर्ष सन 2014 से भारत सरकार द्वारा इस दिशा में कुछ सार्थक प्रयास किये जा रहे हैं जिनमें से एक है "हिंदी में URL की शुरुआत करना". ये कदम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हमारी हिंदी को एक नया सम्मान और गौरव दिलाएगा और इससे आने वाले दिनों में इंटरनेट पर हिंदी का उपयोग और महत्व बढेगा.

इंटरनेट पर हिंदी का महत्व, उपयोग और सम्मान बढ़ने के लिए हमें इंटरनेट पर हिंदी का उपयोग बढ़ाना होगा.

हिंदी का अगर हम भारतीय सम्मान करेंगे तो आने वाले दिनों में सारी दुनिया में भी हिंदी का सम्मान और महत्व बढेगा.
आप अपने विचारों से अवगत जरुर करायें.

अनिल साहू ब्लागरधन्यवाद.

अनिल साहू
म.प्र., भारत
इस वेबसाइट के बारे में आपके सुझाव और विचारों की हमें प्रतीक्षा रहेगी. आप अपने सुझाव और विचार हमें comments के द्वारा भेज सकते हैं. और आप हम से ब्लॉगर contact form द्वारा भी संपर्क कर सकते हैं.







STUMBLE UPON
FACEBOOK
GOOGLE PLUS

HINDISUCCESS FB PAGE  

एक टिप्पणी भेजें

3 टिप्पणियाँ

Raghvendra Khare ने कहा…
Excellent, useful and informative posts. Good Luck.
Anil Sahu ने कहा…
Thanks a lot and best of luck.
jeetapki.com ने कहा…
अनिल भाई हिंदी के प्रति आपका लगाव देख कर मुझे बहुत अच्छा लगा । क्योकि मुझे भी अपनी मातृभाषा से लगाव है । और हम सभी को मिल कर हिंदी को बढ़ावा देने की तरफ कोशिश करना चाहिए
www.moneymarketup.com हमेशा आपके साथ इस mission में साथ देगा ।